Pages

Search This Website

Wednesday, 27 July 2022

अगर आप इस चीज को भिगोकर इसका सेवन करेंगे तो आपको कभी भी हार्ट अटैक, डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियां नहीं होंगी

 अगर आप इस चीज को भिगोकर इसका सेवन करेंगे तो आपको कभी भी हार्ट अटैक, डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियां नहीं होंगी





 

आज के कोरोना काल में सूखे मेवे का सेवन बहुत ही कारगर है। सुकमेव हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। सुकमेव हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और कई बीमारियों के खतरे को भी कम करता है। साथ ही विशेषज्ञों के अनुसार रोजाना एक मुट्ठी सूखे मेवे खाने की सलाह दी गई है।

 

सूखे मेवे त्वचा, दिल और दिमाग के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं, गर्म मौसम में सूखे मेवे कम मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है। सूखे मेवे स्वाद में गर्म होते हैं, इसलिए विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि उन्हें पानी में भिगोकर गर्म मौसम में सेवन करना चाहिए, ताकि शरीर को कम गर्मी मिले।


बादाम और अखरोट जैसे सूखे मेवों को लोग ज्यादातर गर्मी में भिगोना पसंद करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि कई ऐसे मेवे भी होते हैं जो भिगोए नहीं जाते हैं। दिल्ली में डॉ. पोषण विशेषज्ञ। शैली तोमर के अनुसार खजूर, अंगूर को भिगोकर नहीं खाना चाहिए क्योंकि भिगोने से पानी में गुण मिल जाते हैं और सूखे मेवों में कोई गुण नहीं होता है

Also read હાલ વાઇરલ તાવ , શરદી ઉધરસ એ ભરડો લીધો છે, જાણો તેનાથી બચવાના ઉપાયો.. તાવ રહેશે દૂર

दोस्तों, आप यह भी जानते होंगे कि वेदों और पुराणों में सुकमेव की विशेष रूप से चर्चा की गई है और इसके लाभों के बारे में भी खूब बताया गया है। ऐसे में ड्राई फ्रूट्स के फायदे कई हैं। आज हम आपको कई अन्य सूखे मेवों के फायदे और नुकसान के बारे में बहुत सारी रोचक जानकारी देंगे।


शरीर के स्वास्थ्य से लेकर मस्तिष्क के स्वास्थ्य तक, ड्राईफुट के कई फायदे हैं। अखरोट के भी कई फायदे हैं, खासकर काजू और बादाम। अगर आप सूखे मेवे भिगोते हैं। तो आप कई जिद्दी बीमारियों से निजात पा सकते हैं। रोजाना 2 अखरोट को पानी में भिगोकर खाने से हार्ट अटैक नहीं आता है। अन्य सूखे मेवों के भी कई फायदे हैं।


क्रेडिट लिंक

 

सूखे मेवे खाने का सबसे अच्छा समय सुबह जल्दी होता है और आप इसे दोपहर या दोपहर में खा सकते हैं। इससे आपको बहुत लाभ होगा और आपके जीवन को स्वस्थ बनाने में भी मदद मिलेगी। आपको बता दें कि चूंकि सभी सूखे मेवे गर्म होते हैं, इसलिए गर्म मौसम में इनका सेवन कम मात्रा में करना चाहिए। गर्म मौसम में छास फल का सेवन करने से शरीर ठंडा रहता है।


इसके अलावा कमजोर पाचन तंत्र, कमजोर तिल्ली, पेट फूलना, एसिडिटी के रोगियों को पूरी तरह ठीक होने तक अखरोट के सेवन से बचना चाहिए, बहुत अधिक सूखे मेवे खाने से अपच, पेट में भारीपन, गर्मी की समस्या, दस्त, वजन बढ़ना, कमी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। भूख की हाँ, क्योंकि इसमें 80 प्रतिशत वसा होता है।

No comments:

Post a Comment